अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता :- केवल कुछ देशद्रोहियों के लिए ही क्यों??

3 weeks ago
desiCNN
खबर है कि मुम्बई विश्वविद्यालय के एक वरिष्ठ प्राध्यापक योगेश सोमण को महराष्ट्र राज्य सरकार के इशारे पर विश्वविद्यालय-प्रशासन ने सिर्फ इस कारण जबरन छुट्टी पर भेज दिया क्योंकि वे कांग्रेसी नेता राहुल गांधी के सावरकर-सम्बन्धी बयान पर नकारात्मक टिप्पणी करते हुए उन्हें सावरकर तो क्या सच्चा ‘गांधी’ मानने से भी इनकार कर दिया।प्रोफेसर साहब की टिप्पणी कहीं से भी आपत्तिजनक नहीं है। सच्चाई यह है कि उन्होंने राहुल के जिस बयान पर बेबाक टिप्पणी की, वह बयान आपत्तिजनक है। गत 14 जनवरी को प्रोफेसर योगेश ने अपने ट्विटर पेज पर राहुल गांधी के द्वारा विनायक दामोदर सावरकर के नाम से स्वयं को जोड़कर दिए बयान की तीखी आलोचना की थी। राहुल गांधी ने देश की राजधानी दिल्ली में आये दिन बलात्कार की घटनाओं पर प्रतिक्रिया जताते हुए दिल्ली को ‘रेप कैपिटल’ कह दिया था। उनके बयान की देशभर मे...........

For More Download the App