आप क्या सोचते हैं ?

12 years ago
Super User
आजादी के ६० वर्ष व्यतीत हो जाने के बाद भारत के बारे में विभिन्न आयु समूहों की सोच अलग-अलग हो गई है । आप क्या सोचते हैं, यह इस बात पर निर्भर हो गया है कि आप कौन हैं, आप क्या हैं, आपकी जाति क्या है, धर्म क्या है, शिक्षा क्या है, अमीर हैं या गरीब हैं आदि खाँचों में हमारी सोच बँटी हुई है । कहा जाता है कि देश, काल और परिस्थिति के अनुसार मनुष्य की सोच और उसका व्यवहार बदलता रहता है, परन्तु भारत के बारे में यह निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि यहाँ बहुसंख्यक अवाम की कोई सोच (जिसे हम "विचार" कहते हैं) विकसित हुई ही नहीं । एक तरफ़ तो हम देखते हैं कि इसराईल जैसे देश में जब रेडियो पर भी राष्ट्रीय गीत की धुन बजती है तो लोगबाग अपनी कारें रोक कर बाहर निकलकर खडे हो जाते हैं और दूसरी तरफ़ हमारे देश के एक महान (?) नेता राष्ट्रगीत के समय आराम से सोफ़े पर पसरे रहते हैं (देखें चित्र), यह सब क्या है ? कहीं ऐसा त...........

For More Download the App