"आयुर्वेदिक" अंडे के नाम पर भारतीय संस्कृति का अपमान

4 months ago
desiCNN
जो अंडे अभी तक सिर्फ अंडे थे जिसे शाकाहार की श्रेणी में नहीं रखा जा रहा था अब वो अचानक से आयुर्वेदिक हो गये. अंडे के फायदे, नुकसान और उपयोग को लेकर भले ही सबके अपने-अपने दावे और तर्क हों, पर सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुक्कुट अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र के अनुसार उनके अंडे को आयुर्वेदिक इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि इस प्रक्रिया में मुर्गियों को जो आहार दिया जाता है उसमें आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का मिश्रण होता है. मतलब मुर्गियों को मुनक्खा, किशमिश बादाम और छुआरे आदि परोसे जा रहे तो उनसें पैदा होने वाले अंडे आयुर्वेदिक कहे जा रहे है. असल में आयुर्वेदिक अण्डों की बिक्री शुरू भी हो चुकी है. तेलगु समाचार पत्र इनाडु में प्रकाशित खबर की माने तो आयुर्वेदिक अंडे की बिक्री तेलगु भाषी कई राज्यों के साथ बेंगलुरु में भी की जा रही है. सौभ...........

For More Download the App