क्या आप मालवा के मंगल पांडे शहीद कुंवर चैनसिंह के बारे में जानते हैं??

1 month ago
desiCNN
देश में जब अंग्रेजी कुशासन का दौर चल रहा था तब उन्हें सीधे.सीधे चुनौती देने एवं ललकारने का साहस मालवा में सीहोर की धरती पर कुंवर चैनसिंह ने दिखाया। उन्होंने अपने साथियों के साथ फिरंगियों से लोहा लिया उन्हें नाको चने चबवाए लेकिन अंत में वह वीरगति को प्राप्त हो गए। देश में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ पहली सशस्त्र क्रांति का पहला शहीद मंगल पांडे को माना जाता है। मगर कुंवर चैन सिंह की शहादत मंगल पांडे के शहीद होने की घटना से भी करीब 33 वर्ष पहले की है। भारत में व्यापारी के रूप में आई ईस्ट इंडिया कंपनी की हड़प नीति के चलते राजे-रजवाड़े और आम नागरिक बहुत प्रताड़ित और व्यथित हो रहे थे। अपनी विस्तारवादी लिप्सा के चलते कंपनी जहां रजवाड़ों और रियासतों को अधिकार विहीन कर रही थी, वहीं व्यापार के बहाने नागरिकों का दोहन भी कर रही थी। इस वजह से यदा कदा कंपनी की खिलाफत के सुर भी स...........

For More Download the App