क्या जनहित याचिकाएँ, वास्तव में जनहित के लिए होती हैं??

3 days ago
desiCNN
प्रजातंत्र में जनहित याचिका कानूनी तरीके से सामाजिक परिवर्तन को प्रभावी बनाने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। इसे पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन (पीआईएल) के नाम से भी जाना जाता है। जनहित याचिका एक ऐसा अभिनव माध्यम है, जिसमें न्यायालय के समक्ष एक याचिका प्रस्तुत कर सार्वजनिक महत्व के मुद्दों को उठाया जाता है। इसे हम न्यायिक सक्रियता का परिणाम भी कह सकते हैं, जिसके माध्यम से शासन से बड़े सार्वजनिक हित पूरा करने की मांग की जाती है। उचित मुद्दा होने पर सर्वोच्च न्यायालय अथवा उच्च न्यायालय हस्तक्षेप कर उस मुद्दे के निराकरण हेतु आदेश देते हैं।संविधान में अनुच्छेद 14, 15, 16, 17, 19, 21, 22, 23, 25, 32 तथा 226 ऐसे अनुच्छेद हैं, जिनके माध्यम से जनहित के मामले उठाए जा सकते हैं। विगत कुछ वर्षों में इसने जीवन के विभिन्न पहलुओं को भी छुआ है। विडंबना यह है कि जनहित के सारे मामले सरकार के अपने अधिकारों क...........

For More Download the App