क्या सोशल मीडिया अफवाह और नकारात्मकता का अड्डा बन रहा है?

6 months ago
desiCNN
[ डॉ. संजय वर्मा ]: सोशल मीडिया नए जमाने का सच है। आप सर्जक हों, जैसे लेखक, मीडियाकर्मी, राजनेता या मार्केटिंग के उस्ताद या फिर सूचना और मनोरंजन के ग्राहक-उपभोक्ता, दोनों को इसकी अलग-अलग वजहों से जरूरत है। सर्जक और उपभोक्ता की जरूरतों के ये दोनों छोर रोजाना फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब आदि सोशल मीडिया के मंचों के जरिये अरबों-खरबों सूचनाओं और छवियों आदि से लबरेज रहते हैं। इन जरूरतों ने हमें सोशल मीडिया में इतना गाफिल कर रखा है कि हमें इनके बिना एक पल का चैन मिलना मुमकिन नहीं लगता। बीते दिनों जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक ट्वीट के बाद तमाम कयासों के साथ यह एक सवाल भी उछला कि क्या सोशल मीडिया अफवाहों और नकारात्मक सूचनाओं के प्रचार-प्रसार का जरिया बनकर रह गया है?सामाजिक जुड़ाव के नाम पर सोशल मीडिया तमाम विकृतियों की शिकार हो गई शायद यह इंसान की जन्मजात कमज...........

For More Download the App