ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए पैसों से ज्यादा परिवर्तन की जरूरत

1 week ago
desiCNN
ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुस्ती छाई हुई है। ग्रामीणों के पास खर्च करने के लिए पैसा नहीं है। पैसा नहीं है, तो बाजार में पैसा नहीं पहुंच रहा। पैसा नहीं पहुंच रहा, तो नए काम में निवेश नहीं हो रहा। इसका इलाज यह सोचा गया है कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था में अतिरिक्त पैसा भेजा जाए, ताकि ग्रामीणों की क्रय शक्ति बढ़े। केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय से मनरेगा के तहत 20,000 करोड़ रुपये अतिरिक्त मांगे हैं। हालांकि मौजूदा वित्त वर्ष में मनरेगा के तहत 60,000 करोड़ रुपये का आवंटन है, जबकि संपूर्ण ग्रामीण विकास मंत्रालय का आवंटन 1.20 लाख करोड़ रुपये है। अन्य मंत्रालयों के कार्यक्रमों के माध्यम से भी ग्रामीण क्षेत्रों में पैसा जा रहा है।क्या 20,000 करोड़ अतिरिक्त पैसा पटरी से उतरी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को पटरी पर ला देगा। ऐसा लगता नहीं है, क्योंकि जहां पर बीमारी है, ग्रामीण अर्...........

For More Download the App