जीवटता, जिंदादिली, स्पंदन की मिसाल :- खेल रत्न दीपा मलिक

2 weeks ago
desiCNN
उसूलों पे जहां आंच आए टकराना जरूरी है, जो जिन्दा हों तो फिर जिन्दा नजर आना जरूरी है20 साल से व्हीलचेयर पर जिंदगी। 36 साल की उम्र में तीन ट्यूमर सर्जरी। 31 ऑपरेशन और 183 टांके। यह सब सुन अगर आपके दिल में दया की भावना उमड़ रही हो तो ठहरिए क्योंकि दीपा मलिक की कहानी आपकी सहानूभुति नहीं बल्कि खुद को प्रोत्साहित करने के काम आएगी। शरीर का निचला हिस्सा सुन्न हो जाने के बावजूद दीपा ने दुनिया भर में तिरंगा फहराया।भले ही अपने पैरों पर खड़े नहीं हो सकती, लेकिन न जाने कितनों का आत्मविश्वास जगाया। पूरी दुनिया के लिए हौंसले और जज्बे का दूसरा नाम बन चुकीं ओलंपियन दीपा को खेल दिवस के मौके पर देश का सर्वोच्च खेल पुरस्कार देकर सराहा गया।29 अगस्त को दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन का दरबार हॉल तब तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा, जब उद्घोषिका दीपा के खेल, कारनामों और उपलब्धियों की फेहरिस्त ...........

For More Download the App