जेहादियों ने केवल हाथ काटा, लेकिन चर्च ने अकेला छोड़ दिया - प्रोफ़ेसर जोसफ

1 month ago
desiCNN
टीजे जोसेफ केरल के इदुकी जिले के एक कॉलेज में मलयालम पढ़ाते थे। ४ जुलाई २०१० को ईशनिंदा के आरोप में मुस्लिम कट्टरपंथियों ने उनका दाहिना हाथ काट दिया। कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन के ७ युवकों ने ​उन पर तब आक्रमण किया जब वे अपने परिवार के साथ चर्च से प्रार्थना कर लौट रहे थे। कट्टरपंथियों का आरोप था कि जोसेफ ने परीक्षा के लिए जो प्रश्न तैयार किए थे उसमें ईशनिंदा वाले प्रश्न पूछे गए थे।इस आक्रमण के बाद जोसेफ का जीवन सामान्य नहीं रह गया था। हाल ही में जोसेफ का आत्मचरित्र प्रकाशित हुआ। इसके बाद एक फिर से धार्मिक असहिष्णुता कि मुद्दा गर्म हो गया। इसका कारण उन्हें निशाना बनाने वाले इस्लामिक कट्टरपंथी नहीं हैं। बल्कि, जोसेफ के खुद के ईसाई समुदाय ने उनका जीवन तबाह कर दी। बकौल जोसेफ, उन्होंने अपना हाथ अपनी समुदाय की वजह से खोया है।जोसेफ ने अपनी पुस्तक के विमोचन के बाद एक सा...........

For More Download the App