झोला/थैला उठाने में शर्म कैसी? आगामी पीढ़ी के बारे में सोचें...

2 weeks ago
desiCNN
देश के प्रधानमंत्री ने हालिया में प्लास्टिक के प्रति एक संवेदनशील आंदोलन का आह्वान किया है। उससे दो बातें बड़ी साफ हैं। पहली बात ये कि अगर देश का प्रधानमंत्री इस समस्या के प्रति गंभीर है तो इसका मतलब प्लास्टिक के दुष्प्रभाव आज बदतर हालात में पहुंच चुके हैं। दूसरी बड़ी बात यह भी है कि अगर प्रधानमंत्री इस मसले में खुद दिलचस्पी ले रहे हैं तो समझिए सरकार इस ओर गंभीर है और प्लास्टिक के इस दुष्प्रभाव से देश को मुक्त कराना चाहती हैं।उनकी ही पहल पर शुरू हुए स्वच्छ भारत अभियान का गुणगान दुनिया कर रही है। इस अभियान के भी पांच साल पूरे होने जा रहे हैं। प्लास्टिक और स्वच्छता का आपस में बहुत घनिष्ट नाता है। अगर देश को स्वच्छ रखना है तो सबसे पहले हमें इस देश को प्लास्टिक मुक्त करना होगा। इन पांच साल में सरकार तो गंभीर रही लेकिन आमजन ने इसे कभी गंभीरता से नहीं लिया।20वीं सदी ...........

For More Download the App