दिल्ली प्रदेश भाजपा में घमासान :- चुनाव खर्चों में घोटाले का आरोप

2 weeks ago
desiCNN
अभी दो ही दिन पूर्व दक्षिण दिल्ली के सांसद रमेश बिधूड़ी ने जो दर्द बयां किया, वास्तव में केन्द्रीय पदाधिकारियों के लिए चिंता का विषय है। केन्द्रीय पदाधिकारियों को इस मुद्दे को हल्के में न लेकर गंभीरता से मंथन करना चाहिए। क्योकि लगभग सभी स्थानीय नेता मोदी-योगी-अमित पर आश्रित रहकर बड़े सुरमा भोपाली बन रहे हैं। व्यक्तिगत रूप से बिधूड़ी के बयां किए गए दर्द की दिल से सराहना करता हूँ। बिधूड़ी के दर्द को अन्यथा न लेकर, शीर्ष नेतृत्व गंभीरता से मनन करे। बिधूड़ी के ही दर्द ने उस लेख को ब्लॉग पर प्रकाशित करने के लिए प्रेरित किया, जिसे दो महीने से ड्राफ्ट के रूप में रखे हुआ था। यदि स्थानीय स्तर पर मोदी-योगी-अमित के समान कार्य किया जाता, दिल्ली में सातों सीटें काफी अच्छे अंतर से जीती जा सकती थीं। स्थानीय नेताओं की कार्यशैली को देख दिल्ली में 4-2-1 का अनुमान लगाया जा रहा था। ...........

For More Download the App