प्रवासी मजदूर सरकार पर बोझ न बनने पाएं, ये देश की रीढ़ हैं...

4 months ago
desiCNN
भारत को आर्थिक महाशक्ति बनाने की आए दिन चर्चा होती है। 5 ट्रिलियन इकॉनमी की बात आजकल खूब हो रही है। आखिर यह सब कैसे होगा? यह सबसे बड़ा सवाल है। इसके जवाब तलाशने की जरूरत है।आजादी के बाद हमारे यहां जितनी नीतियां बनीं सभी के केंद्र में उद्योगपतियों को रखा गया। मजदूर कभी इन नीतियों के केंद्र बिंदु नहीं बन पाएं। नीति-निर्धारकों का मानना रहा कि उद्योगपति मजबूत होंगे तो देश खुद-ब-खुद मजबूत हो जाएगा। आज आजादी के 75 साल से ज्यादा हो गए, लेकिन हम कहां हैं? क्या हमने जो सपना देखा था उसे पूरा कर लिया? अगर हमारे सपने पूरे नहीं हुए तो कमियां कहां रहीं, इसे समझने की जरूरत है।सैद्धांतिक रूप से यह सभी सरकारों ने माना कि देश की जो कमजोर कड़ियां हैं, जब तक वे मजबूत नहीं होंगी देश मजबूत नहीं होगा। लेकिन, इनकी मजबूती के लिए किसी सरकार द्वारा खास व्यावहारिक प्रयास नहीं किए। इस देश की सबसे...........

For More Download the App