बिहार की राजनीति में शाहनवाज़ हुसैन की एंट्री क्या गुल खिलाएगी??

1 month ago
desiCNN
सियासत में कुछ भी निर्धारित नहीं होता यह अडिग सत्य है। जिसका मुख्य कारण यह है कि सियासत में जब भी जहाँ भी जैसी आवश्यकता होती है राजनीति उसी अनुसार गतिमान हो जाती है। जी हाँ बिहार की राजनीति ने एक बार फिर से नई करवट ली है जिसकी जिम्मेदारी एक सधे हुए पुराने अनुभवी नेता को दी गई है। अब देखना यह है कि बिहार की राजनीति का ऊँट किस करवट बैठता है। क्योंकि राजनीति में कोई भी फैसला साधारण रूप से नहीं लिया जाता। सियासत में जब भी कोई भी फैसला लिया जाता है वह एक बड़ी योजना के अंतर्गत लिया जाता है। जिसके निश्चित ही दूरगामी परिणाम होते हैं। अगर बिहार की राजनीति की बात करें तो बिहार एक ऐसा प्रदेश है जहाँ की राजनीति दशकों से जातीय आधार पर फलती-फूलती रही है। बिहार की राजनीति का इतिहास अगर उठाकर देखें तो क्षेत्रीय दल ही बिहार की राजनीति का मुख्य हिस्सा दशकों से बने हुए हैं। यदि शब्द...........

For More Download the App