ये कैसा लोकतंत्र? -- जनप्रतिनिधियों को रिजॉर्ट में "बंधक" बनाना ठीक नहीं

2 weeks ago
desiCNN
सत्ता कुर्सी के लिए जब राजनीतिक दलों में उठापटक होती है तब जनता द्वारा निर्वाचित सदस्यों को बिभिन्न दल बंधक बना लेता है ।या यूं कहे उन्हें कहीं रिसोर्ट या दूसरे राज्य में ले जाया जाता है ।इन्हें यहाँ इतनी गोपनीयता के साथ ले जाता है कि कभी कभी पता भी नहीं पड़ता ।मीडिया स्रोतों से इनकी गोपनीयता भंग हो जाती है।और इनकी बंधक स्थिति उजागर हो जाती है ।परिन्दों की तरह इनकी आवाजाही बनी रहती है ।अपारदर्शी कांच के चार्टेट प्लेन और चारपहिये के वाहनों में यहां तक पता नहीं चल पाता कि सफेदी पहना कौन सा नेता इसमें मौजूद है । कभी कभी तो ये उठापटक इतनी गोपनीय हो जाती है कि सदस्यों के चाहने वाले उनके अपने घर वालों तक पता नहीं होता जैसा हाल ही में मध्यप्रदेश में हुआ ।घर वालों को इनकी जानकारी ना होना, क्या इस गोपनीयता को बंधक अपहरण समझकर कानून के कठघरे में खड़ा नहीं करती ।लाखों ल...........

For More Download the App