रूस की दोस्ती भारत के लिए जरूरी क्यों है?? जानिये

2 months ago
desiCNN
साल 1964 में तत्कालीन अमेरिकी राजनयिक चेस्टर बॉउल्स और मॉस्को में तैनात भारतीय राजदूत टी एन कौल की आपसी मुलाकात समकालीन भू-राजनीति के बारे में दिलचस्प नजरिया पेश करती है। उस बैठक में दक्षिण-पूर्व एशिया की चर्चा करते हुए बॉउल्स ने कहा था, ‘सुखद होगा, यदि सोवियत और अमेरिकी सोच को भारत करीब लाने की कोशिश करे... दोनों मुल्कों के साथ भारत की दोस्ती इस काम में सेतु का काम कर सकती है।’ बॉउल्स ने यह भी कहा, ‘मुझे भरोसा है, दक्षिण-पूर्व एशिया में चीन की बढ़ती विस्तारवादी और हस्तक्षेपकारी नीति को रोकने के लिए भारत की मदद से अमेरिका और सोवियत संघ कुछ हद तक आपसी समझ बना लेंगे।’ इसके जवाब में कौल ने कहा था, ‘यह भारत के लिए सचमुच खुशी की बात होगी कि वह अपनी क्षमता के मुताबिक अमेरिका और सोवियत संघ को करीब लाने में मदद कर सके। वास्तव में, हमारी यही नीति है।’ यह बातचीत बताती है कि उस वक्...........

For More Download the App