सुरेश प्रभु :- एक संत प्रवृत्ति, कर्मठ एवं सज्जन व्यक्तित्त्व के मंत्री

1 week ago
desiCNN
सर्वगुण संपन्न होना भले ही मुहावरा हो, मगर सुरेश प्रभु जैसे व्यक्तित्व पर ये मुहावरा शत-प्रतिशत सच बैठता है। भारतीय राजनीति एक ऐसा दलदल या यूं कहें कि काजल की कोठरी है कि जो भी इसमें आता है उसके साथ आरोप-प्रत्यारोप की कालिख और कीचड़ लग ही जाती है। लेकिन इस मायने में सुरेश प्रभु एक अलग ही व्यक्तित्व सिद्ध हुए हैं।मुंबई में सारस्वत बैंक के अध्यक्ष से लेकर लगातार 4 बार लोकसभा के सदस्य, दो बार राज्यसभा के सदस्य, अटल जी के मंत्रिमंडल से लेकर मोदी जी के मंत्रिमंडल में कई अहम विभागों में अपनी सेवाएं देने वाले सुरेश प्रभु पर कभी किसी ने कोई आरोप नहीं लगाया। न मीडिया में उन पर लगे किसी आरोपों पर चर्चा हुई, न विपक्ष के नेताओं ने कभी उन पर कोई आरोप लगाए। मंत्री बनते ही अपने घर पर ये लिखवा देना कि कोई भी व्यक्ति किसी भी तरह का उपहार या फूलों का गुलदस्ता लेकर न आए, प्रभु साहब जैस...........

For More Download the App