होइहै वही जो कमलनाथ रूचि राखा :- मप्र राजनीति विश्लेषण

1 week ago
desiCNN
सियासत की करवट, उधेड़बुन में उलझी मध्यप्रदेश कांग्रेस, बारिश के मौसम में भी भोपाल का बढ़ता तापमान, अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ के खिलाफ मंत्री के ऊँचें स्वर, आबकारी अधिकारी की सौदेबाजी, विधायकों को हिस्सा दिलवाना, अपनी ही सरकार के मंत्री का पुतला जलना, राजा-महाराजा का बगावत पर उतर आना, प्रदेश कांग्रेस की कमान के लिए छटपटाना, पूर्व अध्यक्ष का दुःख जाहिर करना, बंटाधार का चिट्ठी-पत्री का खेल खेलना आदि बहुत सी घटनाएँ बीते हफ्ते मध्यप्रदेश कांग्रेस के भाग्य में जुड़ तो गई किन्तु इसके पीछे मुख्यमंत्री कमलनाथ की चुप्पी भी विचारणीय और निर्णायक बनी हुई है।इतना तो तय है कि पंद्रह वर्षों के वनवास के बावजूद भी कांग्रेस सरकार में आने के बाद से ही कही न कही विवादों में घिरी ही रही है। कभी कर्ज माफ़ी का शौर तो कही बगावती सुरो की लटकी हुई तलवार, कही अपनी ही पार्टी के वरिष्ठों की अनदेख...........

For More Download the App