G-7 में मोदी की धमक, और इधर पाकिस्तान का युद्धोन्माद

2 weeks ago
desiCNN
फ्रांस के बिआरित्ज में संपन्न जी-7 की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भागीदारी यह बता रही थी कि दुनिया की प्रमुख शक्तियों के साथ भारत के राजनीतिक, आर्थिक, व्यापारिक और सैन्य सहयोग किस कदर गहरे हुए हैं। डिजिटल बदलाव और जलवायु परिवर्तन की उभरती चुनौतियों सहित तमाम वैश्विक मसलों को सुलझाने में भारत की भूमिका को भी इससे मान्यता मिलती दिखी। फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रोन ने व्यक्तिगत रूप से प्रधानमंत्री मोदी को आमंत्रित किया था, जबकि भारत विकसित देशों के इस गुट का सदस्य नहीं है।जी-7 का गठन सत्तर के दशक के मध्य में हुआ था और तब से अब तक अच्छा-खासा वक्त बीत चुका है। अब जी-7 सदस्य देशों के पास वह पुराना आर्थिक और राजनीतिक रुतबा नहीं है, जिसके लिए वे कभी जाने जाते थे। चीन ने अमेरिका को छोड़कर जी-7 के सभी सदस्य देशों को पीछे छोड़ दिया है, इसीलिए उसे विकासशील की बजाय विकसि...........

For More Download the App